Option Selling Kya Hai | Option Selling कैसे करें? 2023

Rajat Pandey
29 Min Read

क्या आपको पता है Option Selling Kya Hai ? Option Trading में Call और Put Option को बेचने की प्रक्रिया को Option Selling कहते हैं। Option बेचने वाले को समय के क्षय का लाभ मिलता है, यानी अगर समय बीतने के साथ Option का मूल्य बढ़ता या घटता नहीं है, तो Option Seller लाभ कमाता है।

Option Selling in Hindi: जब आप Option Trading में प्रवेश करते हैं तो या तो आप Option Buying करते हैं या Option Selling करते हैं। आपको बता दें कि शेयर बाजार में 80% लोग Option Buying करते हैं जबकि 20% लोग ही Option Selling करते हैं।

इसका सबसे बड़ा कारण है कि Option Selling के लिए ज्यादा पैसे की जरूरत होती है जबकि Option Buying तो आप कम पैसे से शुरुआत कर सकते हैं।

लेकिन सच्चाई यह है कि 90% Option बायर्स पैसे खो देते हैं जबकि ज्यादातर Option सेलर्स पैसा बनाते हैं।

लेकिन Option बेचने के लिए आपको बहुत कुछ सीखना होगा और काफी अनुभव हासिल करना होगा तभी आप Option Selling में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

तो आज मैं आपको Option Selling के बारे में सब कुछ विस्तार से बताने जा रहा हूँ जैसे-

  • Option Selling क्या है,
  • Option Selling कैसे करें,
  • Option Selling कैसे काम करता है,
  • Option बेचने के क्या फायदे और नुकसान हैं,
  • Option Selling से पैसे कैसे कमाए?

यदि आप Option Selling में बिगिनर हैं और आपने पहले कभी Option Selling नहीं की है और आप इसे बेसिक से लेकर आसान भाषा में समझना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

Option Selling Kya Hai ?

Option Selling का मतलब है Selling या Writing Option (Call और Put)। Option Selling को Option Writing भी कहा जाता है। स्टॉक मार्केट में Option Writing Option बेचने वालों का काम है।

Call और Put Option जो आप Option Trading में खरीदते हैं, केवल Option Seller द्वारा बेचे जाते हैं। Option के Seller का लाभ तब अधिक होता है जब Option की कीमत में ज्यादा उतार-चढ़ाव नहीं होता है।

इसका मतलब है कि जब Option अपनी पिछली कीमत के आसपास ट्रेड करता रहता है तो Option बेचने वाले को फायदा होता है।

अब यह समझने के लिए कि ऐसा क्यों होता है, आपको समय क्षय की अवधारणा को समझना होगा।

हाँ, समय क्षय का अर्थ है समय बीतना। इसे इस प्रकार समझा जाता है-

Option बेचने का उदाहरण

मान लीजिए कि एक Option Buyer है जिसने बैंकनिफ्टी पर 200 रुपये पर Call Option खरीदा है।

इसका मतलब यह हुआ कि एक Option से उसी Call Option को 200 रुपये में बेचा गया होगा, तभी उसने उसे खरीदा है।

अब अगर कुछ समय बाद बैंक निफ्टी ऊपर जाता है जिससे उस Option का प्रीमियम मूल्य 200 से 250 रुपये तक बढ़ जाता है, तो Option Buyer को 50 रुपये का लाभ होगा।

लेकिन अगर उसी Call Option की कीमत 200 रुपये से गिरकर 150 रुपये हो जाती है, तो Option Buyer को 50 रुपये का नुकसान होगा और Option बेचने वाले को 50 रुपये का मुनाफा होगा।

मतलब एक Option Buyer Option मूल्य में वृद्धि पर दांव लगाता है जबकि एक Option Seller Option मूल्य में कमी पर दांव लगाता है।

लेकिन कभी-कभी ऐसा होता है कि Option की कीमत न तो घटती है और न ही बढ़ती है, यानी Call या Put Option एक ही रेंज में Trading करता रहता है। तो ऐसी स्थिति में मुनाफा हमेशा Option बेचने वालों के पास होता है।

इसलिए हर Option Seller चाहता है कि Option की कीमत में ज्यादा हलचल न हो। क्योंकि एक बार Option बिक जाने के बाद समय बीतने के साथ उस Option की कीमत कम हो जाती है, जिससे Option Buyer को नुकसान होता है जबकि Option बेचने वाले को फायदा होता है।

लेकिन याद रखें – कुछ मामले ऐसे होते हैं जब बाजार में कुछ Positive खबरें आने के बाद अचानक से Option की कीमत बहुत बढ़ जाती है, तो उस स्थिति में Option बेचने वाले को नुकसान उठाना पड़ता है।

Option Selling में थीटा क्या है?

ऊपर हमने समय क्षय की बात की है तो समय डीके का अर्थ थीटा है। इसका मतलब यह है कि समय बीतने के साथ, थीटा के कारण, विकल्पों की कीमतें भी कम हो जाती हैं, जिससे Option Seller को लाभ होता है जबकि Option Buyer को नुकसान होता है।

नौसिखियों के लिए Option Selling

अगर आप Option Selling में शुरुआत कर रहे हैं तो हम आपको बता दें कि Option Selling नए लोगों के लिए काफी जोखिम भरी होती है। निःसंदेह इसमें बहुत लाभ है यदि आप अच्छी तरह से Option Selling करना सीख जाते हैं।

लेकिन जब आप नए होते हैं तो जोखिम भी उतना ही ज्यादा होता है।

मैं आपको सलाह दूंगा कि एक शुरुआत के रूप में आपको Intraday में Option Selling करना चाहिए यानी उसी दिन Option को बेचकर प्रॉफिट निकालना चाहिए।

क्‍योंकि जब तक आपके पास ज्‍यादा अनुभव नहीं होता है, तब तक आपको इस बारे में कुछ नहीं पता होता है कि ओवरनाइट मार्केट में कब और कहां क्‍या होगा और आपको इस बारे में ज्‍यादा आइडिया नहीं है कि यह Option की कीमत को कैसे प्रभावित कर सकता है।

इसलिए मैं आपको सलाह दूंगा कि एक नए Option Seller के रूप में आपको हमेशा Intraday Option Selling से शुरुआत करनी चाहिए।

इसके अलावा, आपको Option बेचते समय हमेशा Stop Loss का उपयोग करना चाहिए क्योंकि यह आपको अपने नुकसान को सीमित करने की अनुमति देता है।

और अगर आप बिगिनर हैं, तो आपके लिए Option Trading करते समय स्टॉप-लॉस सेट करना अनिवार्य है क्योंकि अगर आप Stop Loss सेट नहीं करते हैं, तो आपके नुकसान की संभावना बहुत अधिक है।

इसलिए, चाहे आप एक Option खरीद रहे हों या एक Option बेच रहे हों, आपको Stop Loss ऑर्डर देना चाहिए।

अब तक आप जान चुके हैं कि Option Selling क्या है, आइए अब समझते हैं कि-

Option Selling कैसे काम करता है ?

Option Selling Option के प्रीमियम की कीमत में बढ़ोतरी या कमी के आधार पर काम करती है। जब बाजार में निफ्टी और सेंसेक्स में गिरावट आती है तो Call Option की कीमत गिरने लगती है और Put Option की कीमत बढ़ने लगती है।

इसी तरह जब बाजार में तेजी होती है यानी निफ्टी और सेंसेक्स ऊपर जाते हैं तो Call Option के दाम बढ़ने लगते हैं और Put Option के दाम गिरने लगते हैं।

Option Selling कैसे करें (How to do Option Selling in Hindi)

Option बेचने के लिए आपको निर्दिष्ट तिथि पर निर्दिष्ट स्ट्राइक मूल्य पर Call या Put Option बेचने की आवश्यकता होती है। अगर आपने Put Option बेचा है तो आप लाभ तब कमाएंगे जब बाजार ऊपर उठेगा और यदि आपने Call Option बेचा है तो आप लाभ कमाएंगे यदि बाजार गिरेगा।

Call और Put Option को कब Selling है?

आपको Call या Put Option कब Selling चाहिए: अब सवाल यह आता है कि हमें Call Option कब Selling चाहिए और Put Option कब Selling चाहिए? क्योंकि अगर आप Option को सही समय पर नहीं बेचते हैं तो आपको नुकसान भी उठाना पड़ सकता है, इसलिए Option को बेचने के समय के बारे में जानना बहुत जरूरी है।

आपको पता होना चाहिए कि जिस तरह से Option की कीमत बढ़ने पर आपको मुनाफा होता है, उसी तरह से Option को बेचने से आपको मुनाफा होता है, जब Option की कीमत गिरती है।

Call Option कब Selling है?

आपको Call Option तब Selling चाहिए जब बाजार नीचे जा रहा हो। क्योंकि जब बाजार नीचे जाएगा तो Call Option की कीमत गिरेगी और जब Call Option की कीमत नीचे आएगी तो आपको मुनाफा होगा।

Put Option कब Selling है?

जब बाजार ऊपर जा रहा हो तो आपको Put Option को Selling चाहिए। क्योंकि जब बाजार ऊपर जाएगा तो Put Option की कीमत गिरेगी और जब Put Option की कीमत नीचे आएगी तो आपको मुनाफा होगा।

तो अब आप समझ गए होंगे कि कीमत गिरने पर Option Selling हमेशा लाभदायक होता है।

  • इसीलिए जब आप बाजार में मंदी की स्थिति में हैं, यानी आप बाजार में गिरावट की उम्मीद कर रहे हैं, तो आपको Call Option Selling चाहिए
  • और जब आप बाजार में तेज हैं, मतलब आप बाजार के ऊपर जाने की उम्मीद करते हैं, तो आपको Put Option Selling चाहिए।

आपको बता दें कि जब बाजार में गिरावट आती है या वैश्विक स्तर पर कोई बड़ी नकारात्मक घटना होती है तो Option बेचने वाले सबसे ज्यादा पैसा कमाते हैं; रूस यूक्रेन युद्ध, कच्चे तेल का संकट आदि।

क्योंकि बाजार में गिरावट के दौरान लोग पैनिक Selling करते हैं, जिससे बाजार में बहुत तेजी से बिकवाली होने लगती है, जिससे Call Option के दाम बहुत तेजी से गिरने लगते हैं, जिससे Call Option बेचने वाले को मुनाफा होता है।

नोट: अगर आप Option Selling से पैसा कमाना चाहते हैं तो आपको वैश्विक बाजारों पर भी नजर रखनी होगी और बाजार की खबरों से अपडेट रहना होगा ताकि बाजार में अगर कोई ऐसी बड़ी घटना होती है तो आप उसका फायदा उठा सकें।

मुझे उम्मीद है कि अब आप समझ गए होंगे कि अगर बाजार का रुझान ऊपर की ओर है यानी बाजार ऊपर जा रहा है तो आपको Put Option को Selling चाहिए और जब बाजार का रुझान नीचे की ओर हो तो आपको Call Option को Selling चाहिए।

Option Selling से पैसे कैसे कमाए ?

Option Selling से पैसा बनाने के लिए, आपको मार्केट मूवमेंट और प्राइस एक्शन के बारे में जानना होगा। इसके अलावा आपको टेक्निकल एनालिसिस, कैंडलस्टिक पैटर्न, इंडिकेटर, चार्ट पैटर्न एनालिसिस और मूविंग एवरेज का भी ज्ञान होना चाहिए।

  • Option Selling वाले लोगों को तभी भुगतान मिलता है जब कोई और उनसे Option खरीदता है।
  • Option Buyer व्यक्ति को Option Writer को राशि का भुगतान करना होता है।
  • इस भुगतान की गई राशि को प्रीमियम कहा जाता है और इस प्रीमियम के बदले में Option Writer यानी Option बेचने वाले को पैसा मिलता है।

आप Option Selling से तभी पैसा कमा सकते हैं जब आपके पास निवेश करने के लिए न्यूनतम यानी कम से कम 1 या 2 लाख रुपये हों।

आपको बता दें कि ज्यादातर प्रोफेशनल ट्रेडर Option Trading में Option Selling करते हैं और उनके लिए इतना पैसा लगाना आम बात है।

इसलिए जब आपके पास एक या दो लाख रुपए की पूंजी हो तो आप Option Writing यानी Option Selling करने के लिए तैयार हैं।

अब आपको केवल बाजार की स्थिति के आधार पर अपनी Trading रणनीति बनानी है और उसके आधार पर Call या Put Option Selling है। जब आप लगातार अभ्यास करते रहेंगे तो आपको इसमें महारत हासिल हो जाएगी और फिर आप अलग-अलग रणनीतियों का इस्तेमाल करके Option Selling में अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते हैं।

Option Writer पैसे क्यों कमाते हैं?

Option Writer पैसा क्यों बनाते हैं – Option Writer Option Buyer की तुलना में अधिक पैसा कमाता है क्योंकि उसके पास एक फायदा है – वह Option Buyer की तुलना में अपने जोखिम को नियंत्रित कर सकता है।

मतलब Option Writer किसी Option को बेचकर अंडरलाइंग एसेट को खरीदने या बेचने का अधिकार देता है। यदि Option Buyer के अधिकार के आधार पर अंतर्निहित परिसंपत्ति की कीमत बढ़ जाती है, तो Option Writer को उसके लिए कीमत बढ़ाने से प्रतिबंधित नहीं किया जाता है।

इसलिए, Option Writer को अपने जोखिम को नियंत्रित करने की कीमत पर Option Buyer की तुलना में अधिक पैसा बनाने का मौका मिलता है।

सरल शब्दों में-

जब कोई व्यक्ति एक Option (Option Writer) लिखता है, तो वह किसी अन्य व्यक्ति (Option Buyer) को स्टॉक या अन्य अंतर्निहित परिसंपत्ति को खरीदने या बेचने का अधिकार देता है।

जब कोई व्यक्ति एक Option (Option Writer) लिखता है, तो वह किसी अन्य व्यक्ति (Option Buyer) को एक निर्दिष्ट अवधि के लिए या एक निर्दिष्ट मूल्य पर स्टॉक या अन्य अंतर्निहित संपत्ति खरीदने या बेचने का अधिकार देता है।

और जब Option Buyer को यह अधिकार मिल जाता है, तो वह तय कर सकता है कि अंतर्निहित संपत्ति को खरीदना है या नहीं।

वह निर्दिष्ट मूल्य पर हमें संपत्ति बेचने या न बेचने का Option भी चुन सकता है। लेकिन Option Writer के पास ऐसा कोई अधिकार नहीं है, वह सिर्फ यह अधिकार देता है, खुद को कोई अधिकार नहीं देता है।

इसलिए Option Writer के लिए रिस्क कम होता है और Option Buyer के लिए रिस्क ज्यादा होता है, जिससे Option Writer को Option बायर से ज्यादा पैसे कमाने का मौका मिलता है।

Option बेचने के नियम

हर Option Seller ट्रेडर के लिए नीचे दिए गए कुछ नियमों का पालन करना बहुत जरूरी है। यहां कुछ नियम दिए गए हैं जिन्हें आपको Option Selling करते समय ध्यान में रखना चाहिए:

  1. Risk Management: Option बेचने से पहले, उचित जोखिम प्रबंधन योजना तैयार करना आवश्यक है। आपको अपने निवेश के लिए एक बजट तय करना चाहिए और उसी के अनुसार अपने ट्रेड निर्धारित करने चाहिए।
  2. लिक्विडिटी चेक:  Option बेचने से पहले उस Option की लिक्विडिटी चेक करना बहुत जरूरी है। जब आप एक Option बेचते हैं, तो यह एक तरल Option होना चाहिए जिसका अर्थ है कि इसमें व्यापार करने वाले लोगों की संख्या अधिक होनी चाहिए। इसलिए, एक अतरल Option बेचने से बचें। इसके लिए सबसे अच्छा होगा कि आप BankNifty या Nifty में ही Option बेच दें क्योंकि इनमें लिक्विडिटी बहुत होती है।
  3. Margin requirements: Option Selling में मार्जिन की आवश्यकता बहुत अधिक होती है। आपको पहले मार्जिन आवश्यकता की पूरी समझ होनी चाहिए ताकि आप अपने ट्रेडों को ठीक से प्रबंधित कर सकें।
  4. वोलैटिलिटी चेक: Option Selling में, अंडरलाइंग एसेट के वोलैटिलिटी लेवल की जांच करना बहुत महत्वपूर्ण है। अगर आप नए हैं तो ज्यादा उतार-चढ़ाव वाले शेयरों में Option बेचने से बचें।
  5. स्टॉप लॉस:  Option Selling में Stop Loss ऑर्डर देना बहुत जरूरी है। यदि बाजार आपकी स्थिति के विपरीत चलता है तो Stop Loss स्वचालित रूप से आपके व्यापार को बंद कर देता है, इसलिए Stop Loss सेट करना कभी न भूलें।
  6. टाइम मैनेजमेंट: Option Selling में टाइम मैनेजमेंट बहुत जरूरी है। Option का समय मूल्य घटता है, इसलिए समाप्ति तिथि आने से पहले आपको अपने ट्रेडों को प्रबंधित करने की आवश्यकता है।
  7. फंडामेंटल एनालिसिस:  Option Selling में अंडरलाइंग एसेट का फंडामेंटल एनालिसिस बहुत महत्वपूर्ण होता है। आपको अंतर्निहित स्टॉक के मूल सिद्धांतों जैसे वित्तीय विवरण, प्रबंधन गुणवत्ता, बाजार हिस्सेदारी, प्रतिस्पर्धी लाभ आदि के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए।
  8. टेक्निकल एनालिसिस: Option Selling में टेक्निकल एनालिसिस भी बहुत जरूरी है। आपको चार्ट पैटर्न, तकनीकी संकेतक, समर्थन और प्रतिरोध स्तर आदि का अच्छा ज्ञान होना चाहिए।
  9. डायवर्सिफिकेशन: Option Selling में डायवर्सिफिकेशन बहुत जरूरी है। एक ही स्टॉक पर कई ट्रेड करने से जोखिम बढ़ जाता है। इसलिए अपने ट्रेडों में विविधता लाएं और अपने पोर्टफोलियो में कई शेयरों पर Option बेचें।
  10. Patience: Option Selling में धैर्य बहुत जरूरी है। कभी भी जल्दबाजी न करें और धैर्य के साथ अपने ट्रेडों का प्रबंधन करें। इससे आपको अपने ट्रेडों में अस्थिरता से बचने में मदद मिलेगी।

मुझे उम्मीद है कि आप Option Selling करते समय उपरोक्त सभी नियमों का पालन करेंगे, तो मुझे यकीन है कि आप निश्चित रूप से एक सफल Option Seller बनेंगे।

Option Selling के फायदे और नुकसान

वैसे तो Option Selling के कई फायदे हैं लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं जिनके बारे में आपको जानना जरूरी है। इसीलिए नीचे हमने आपको Option Selling के फायदे और नुकसान दोनों के बारे में बताया है, आइए अब इनके बारे में जानते हैं-

Option Selling के फायदे

Option Selling के कई फायदे हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख फायदे इस प्रकार हैं –

  • उच्च लाभ की संभावना: विकल्पों को बेचने में, लाभ की संभावना बहुत अधिक होती है। आपके ट्रेडों की सफलता दर आपके Option बेचने की रणनीति, जोखिम प्रबंधन और मौलिक विश्लेषण पर निर्भर करती है।
  • इनकम जनरेशन: आप Option बेचकर नियमित आय अर्जित कर सकते हैं। जब आप कोई Option बेचते हैं, तो आपको उससे एक प्रीमियम मिलता है, जिससे आप आय उत्पन्न कर सकते हैं।
  • समय क्षय: समय क्षय Option बेचने का एक बड़ा फायदा है। Option का समय मूल्य घटता है, इसलिए यदि बाजार मूल्य स्थिर रहता है, तो यह Option Seller के सर्वोत्तम हित में है।
  • कम जोखिम: Option Selling एक कम जोखिम वाली Trading रणनीति है। Option Writer की जोखिम सीमा होती है और वह केवल प्रीमियम खोने का जोखिम उठा रहा है, जिसका मूल्य सीमा द्वारा प्रतिबंधित है।
  • Flexibility: Option बेचने से आपको Trading में लचीलापन मिलता है। आप अपनी जोखिम सहनशीलता और वित्तीय लक्ष्यों के अनुसार अपनी Option बिक्री रणनीति को अनुकूलित कर सकते हैं।
  • पोर्टफोलियो हेजिंग: Option Selling पोर्टफोलियो हेजिंग का एक अच्छा तरीका है। आप अपने पोर्टफोलियो को गिरावट के जोखिम से बचाने के लिए Put Option बेच सकते हैं।
  • न्यूट्रल मार्केट Trading : Option Selling से आपको न्यूट्रल मार्केट कंडीशन में Trading करने का आइडिया मिलता है, मतलब अगर मार्केट उसी रेंज में चलता रहता है, उस समय आप Option Selling से काफी पैसा कमा सकते हैं। इसका मतलब है कि जब बाजार स्थिर रहता है तो आपके ट्रेड लाभ में रहते हैं।
  • Sideways market में सफलता की अधिक संभावना: Option Selling में आपको साइडवेज मार्केट में सफलता की अधिक संभावना होती है। जब बाजार मूल्य सीमाबद्ध रहता है, तो Option Writer का व्यापार लाभदायक रहता है।
  • मापनीयता: Option Selling आपको मापनीय व्यापार के लिए एक बढ़िया Option देता है। आप अपने व्यापार को बढ़ा या घटा सकते हैं, और अपने वित्तीय लक्ष्यों के अनुसार अपनी व्यापारिक गतिविधि बढ़ा सकते हैं।

Option बेचने के नुकसान

Option Selling के कुछ नुकसान यहां बताए गए हैं जैसे-

  • असीमित नुकसान: Option बेचने का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि आपके नुकसान असीमित हो सकते हैं। जब आप एक Option बेचते हैं, तो आपका संभावित नुकसान असीमित होता है, जबकि आपका संभावित लाभ सीमित होता है।
  • उच्च मार्जिन की आवश्यकता: Option बिक्री में, मार्जिन की आवश्यकता अधिक होती है क्योंकि आपके संभावित नुकसान असीमित होते हैं। इसलिए, Option बेचने के लिए उच्च पूंजी की आवश्यकता होती है।
  • मार्केट रिस्क: Option बेचने में बाजार जोखिम बहुत अधिक होता है। बाजार में उतार-चढ़ाव और अचानक होने वाली घटनाएं आपके ट्रेडों के लिए बहुत जोखिम पैदा कर सकती हैं।
  • समय की कमी: Option बेचने में समय की कमी होती है। Option का समय मूल्य घटता है, जिससे आपका व्यापार समयबद्ध हो जाता है। इससे बचने के लिए, आपको अपने ट्रेडों को समयबद्ध तरीके से प्रबंधित करने की आवश्यकता है।
  • भावनात्मक रूप से पलायन: Option बेचने वाली Trading रणनीति भावनात्मक रूप से समाप्त हो सकती है, क्योंकि आपके ट्रेडों का प्रबंधन करना बहुत महत्वपूर्ण है। आपको अपने व्यापार पर लगातार सतर्क रहना होगा।
  • फंडामेंटल एनालिसिस: Option बेचने की रणनीति में, अंतर्निहित परिसंपत्ति का मौलिक विश्लेषण बहुत महत्वपूर्ण है। यदि आपका मौलिक विश्लेषण गलत हो जाता है, तो आपका व्यापार घाटे में परिवर्तित हो सकता है।
  • टेक्निकल एनालिसिस: Option बेचने में तकनीकी विश्लेषण भी बहुत महत्वपूर्ण है। आपको चार्ट, तकनीकी संकेतक, समर्थन प्रतिरोध स्तर आदि का अच्छा ज्ञान होना चाहिए।
  • डायवर्सिफिकेशन: Option बेचने में विविधीकरण बहुत महत्वपूर्ण है। अगर आप किसी एक स्टॉक या किसी एक सेक्टर में Trading करते हैं तो आप काफी जोखिम उठा सकते हैं।
  • धैर्य: Option बेचने की रणनीति में धैर्य बहुत महत्वपूर्ण है। आपको अपने ट्रेडों को समयबद्ध तरीके से प्रबंधित करना होगा और ट्रेडों को धैर्य के साथ संभालना होगा।
  • जटिलता: Option बेचने की Trading रणनीति जटिल है। आपको अंतर्निहित परिसंपत्ति, जोखिम प्रबंधन और व्यापार प्रबंधन के Option मूल्य निर्धारण, अस्थिरता, मौलिक और तकनीकी विश्लेषण की अच्छी समझ होनी चाहिए।
यह भी पढ़ें :- 

Option बेचने के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. क्या Option Selling लाभदायक है?

Option Selling उन लोगों के लिए लाभदायक है जो बाजार की स्थितियों को ध्यान से समझकर और तकनीकी विश्लेषण का उपयोग करके Call और Put Option बेचते हैं। Option बेचकर, आप केवल तभी लाभ कमा सकते हैं जब अक्षांश मूल्य आपके पूर्वानुमान के अनुसार चलते हैं।

Q. Option बेचने की लागत कितनी है?

Option Selling में कम से कम 1 से 2 लाख रुपये का खर्च आता है। लेकिन यह एक निश्चित राशि नहीं है, यानी Option को बेचने के लिए आवश्यक राशि बाजार की अस्थिरता और मार्जिन आवश्यकता पर निर्भर करती है।

Q. Option कौन लिख सकता है?

Option लिखने का अधिकार किसी भी व्यक्ति के लिए उपलब्ध है, जिसके पास Option Trading के लिए एक खुला Trading खाता है। इसके लिए ब्रोकर के जरिए मार्जिन अकाउंट खोलना पड़ता है। मार्जिन खाता खोलने के लिए, ब्रोकर मार्जिन आवश्यकताओं के अनुसार जमा करने के लिए कहता है। Option Writing के लिए, बिड/आस्क के माध्यम से Trading प्लेटफॉर्म पर ऑर्डर देकर प्रीमियम एकत्र किया जा सकता है।

Q. Option बेचने वाले कितना कमाते हैं?

वैसे अगर रकम की बात की जाए तो Option Seller आसानी से 1 से 2 लाख रुपए कमा लेता है। लेकिन पैसे Option Seller की राशि Option के प्रकार, स्ट्राइक प्राइस, अंतर्निहित परिसंपत्ति की अस्थिरता और बाजार की स्थितियों पर निर्भर करती है।

Option Seller एक प्रीमियम चार्ज करते हैं, जिसकी राशि स्ट्राइक मूल्य और बाजार की स्थितियों से निर्धारित होती है। Option Seller तब भी मुनाफा कमाता है जब Option खरीदने वाला Option का इस्तेमाल नहीं करता है और Option एक्सपायर हो जाता है।

Q. क्या Option बेचने वाले हमेशा पैसे कमाते हैं?

नहीं, Option बेचने वाले हमेशा पैसा नहीं बनाते हैं जब बाजार में अस्थिरता अधिक होती है तो Option बेचने वाले को भी घाटा होता है।

Q. क्या Option Selling खरीदने से बेहतर है?

संक्षेप में, हाँ Option दूसरा Option खरीदने से बेहतर है लेकिन तभी जब आप इसके सभी जोखिमों को अच्छी तरह से समझते हैं। लेकिन Option Selling और Option खरीदना दोनों अलग-अलग Trading रणनीतियाँ हैं और दोनों के अपने फायदे और नुकसान हैं।

एक Option बेचने से प्रीमियम जमा करके लाभ होता है, लेकिन इसमें जोखिम शामिल होता है। सही रणनीति और जोखिम प्रबंधन के साथ, दोनों Trading रणनीतियाँ अवसर का लाभ उठा सकती हैं।

Technofact Subscribe

निष्कर्ष :- Option Selling Kya Hai In Hindi ?

Option Selling एक लोकप्रिय Trading रणनीति है जिसका उपयोग अनुभवी ट्रेडर करते हैं। इसमें Option Seller उसके रिस्क मैनेजमेंट और Trading प्लान को समझने के बाद Option Buyer के लिए Option लिखता है और बदले में प्रीमियम जमा करता है।

यह रणनीति बाजार की अस्थिरता के साथ काम करती है, जिसके कारण Option बेचने वाले को संभावित लाभ और जोखिम से निपटना पड़ता है। विकल्पों को बेचने के पक्ष और विपक्ष हैं, और यह रणनीति केवल अनुभवी व्यापारियों के लिए ही अच्छी है।

अगर आप Option Selling करने की सोच रहे हैं तो आपको इसके सभी नुकसान और फायदे के बारे में पता होना चाहिए। संभावनाओं के साथ-साथ जोखिमों को ध्यान में रखते हुए आप Option Selling का लाभ उठा सकते हैं।

इस पोस्ट ( Option Selling Kya Hai In Hindi ) में मैंने आपको बताया है कि Option Selling क्या है, Option Selling कैसे करें, यह कैसे काम करता है, Option Selling से पैसे कैसे कमाए और इसके फायदे और नुकसान क्या हैं?

मुझे उम्मीद है कि अब आपको Option Selling के बारे में पूरी बुनियादी जानकारी हो गई होगी। यदि आपके पास Option Selling से जुड़ा कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें।

Share This Article
Follow:
मेरा नाम Rajat Pandey है और मैं इस ब्लॉग का Founder हूं। यहां पर मैं अपने पाठकों के लिए नियमित रूप से ब्लॉगिंग , ऑनलाइन पैसे कमाए , शेयर मार्केट , निवेश और फाइनेंस से संबंधित उपयोगी जानकारी शेयर करता हूं।
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *